Sabhee Yugon Ke Naam, Jane Vistar Se Hindi Me

Sabhee Yugon Ke Naam - आपने बचपन कभी न कभी इन चारो Yugon के बारे में तो पढ़ा ही होगा। यह चार Yugon होते है, सतयुग, त्रेता युग,द्वापर युग और कलयुग हमारे शास्त्रों में इन युगों के बारे में काफी अच्छे विस्तार से बताया गया है। आज हम जिस युग की हम बात कर रहे हैं वो वर्त्तमान में  कलयुग है।

Sabhee-Yugon-Ke-Naam
Sabhee-Yugon

Sabhee Yugon Ke Naam Vistar Se

कलयुग का अंत कैसे होगा और Kalayug Ka Ant Aate Aate इंसान की हालत क्या होगी इस बारे में भागवत पुराण में काफी अच्छे विस्तार से बताया गया है। शास्त्रों के अनुसार अभी जो युग वर्त्तमान चल रहा है वो कलयुग है। और कलयुग का प्रथम चरण है लेकिन जैसे जैसे Kalayug Apane Charanon को पूरा करता जाएगा वैसे मनुष्य की जिंदगी पर बहुत बुरा प्रभाव देखने को मिलता रहेगा। 

शास्त्रों के अनुसार समय अवधि को बड़े विस्तार से बताया गया है। इसके अनुसार हमारे पितरों का एक दिन रात मनुष्य के एक महीने के बराबर होता है। वहीं देवताओं Ek Din Raat Manushy के एक  साल के बराबर होता है।  इसी प्रकार देवताओं का एक महीना मनुष्य के तीस  साल के बराबर और देवताओं का एक साल मनुष्य के 360 Saal Ke Baraabar होता है।

ब्रह्मपुराण में कलियुग  में Manushy Kee Umr Kam Se Kam सौ साल की रहेगी बताई गई है। इसके अलावा मनुष्य की लंबाई की बात करें तो उनकी लंबाई कम से कम पांच - पांच  फीट होगी जैसे जैसे कलयुग का अंत करीब आने लगेगा मनुष्य जाति का अंत होने लगेगा।

लोगों में एक दूसरे के प्रति दुश्मनी रखने लगेंगे और एक दूसरे की हत्या करनेलग जायेंगे। Kalayug Ka Ant होते होते मनुष्य की उम्र लगभग केवल तेरह वर्ष साल की  रह जाएगी और उसकी लंबाई सिर्फ 4 इंच रह जाएगी।  इस समय महिलाओं का Svabhaav Bhee Behad Kathor हो जाएगी। केवल धनवान व्यक्तियों के पास ही महिलाएं रहेंगी। मनुष्य के स्वभाव की बात करें तो उनका स्वभाव गधों की तरह हो जाएगा।

पुराणों के अनुसार हमरी धरती पर Kalki Avataar Ka Bhee Jikra मिलता है। ऐसा कहा गया है कि जब धरती पाप के बोझ तले दब जाएगी और इस धरती पर अपार पाप होगा तब भगवान विष्णु कल्कि का अवतार लेकर धरती पर अवतरित होंगे और इस धरती को पापियों से मुक्त करेंगे। इसके बाद फिर से Dobara सतयुग की शुरुआत होगी।

सतयुग
17,28,000 वर्ष के Satayug Me Manushy की लंबाई 32 फिट और उम्र 100000 वर्ष की बतायी गई है।  इस युग में पाप की मात्र 0 परसेंट होती है, इस युग में पुण्य की मात्रा 100 परसेंट होती है। 

त्रेतायुग
12,96,000 वर्ष की Kaalaavadhi Ka Tretaayug तीन पैरों पर खड़ा है, इस युग में मनुष्य की आयु 10000 वर्ष और लंबाई 21 फिट की बतायी गई है। इस युग में पाप की मात्रा 25 परसेंट  होती है। इस युग में पुण्य की मात्रा 75 परसेंट होती है। 

द्वापरयुग
8.64,000 वर्ष की कालावधि का Dvaaparayug Do Pairon पर खड़ा है, इस युग में मनुष्य की आयु 1000 वर्ष और लंबाई 11 फिट बतायी गई है। इस युग का तीर्थ कुरुक्षेत्र और अवतार भगवान श्रीकृष्ण हैं।इस युग में पाप की मात्रा  50 परसेंट  होती है। इस युग में पुण्य की मात्रा 50 परसेंट होती है 

कलियुग
4,32,000 वर्ष की कालावधि के इस Kaliyug kKo eEk Pair पर खड़ा बताया गया है। इस युग में मनुष्य की आयु 100 वर्ष और लंबाई 5 फिट 5 इंच बतायी गई है। इसका तीर्थ गंगा और अवतार बुद्ध एवं कल्कि बताए गए हैं। इस युग में पाप कर्म 75 परसेंट ,पुण्य कर्म 25 परसेंट होते हैं, इस युग की मुद्रा - लोहा और पात्र मिट्टी के हैं।

दिव्य वर्ष अर्थात एक कृत युग
1 . चार हजार आठ सौ  दिव्य वर्ष अर्थात एक कृत युग Satayug Manav Varsh के मान से 1728000 वर्ष।
2.  तीन हजार छः सौ  दिव्य वर्ष अर्थात एक Treta Yug Manav Varsh के मान से 1296000 वर्ष।
3.  दो हजार चार सौ  दिव्य वर्ष अर्थात एक Dvaapar Yug Manav Varsh के मान से 864000 वर्ष।
4.  एक हजार दो सौ दिव्य वर्ष अर्थात एक Kali Yug Maanav Varsh के मान से 432000 वर्ष।

बारह हजार दिव्य वर्ष अर्थात चार युग अर्थात Ek Mahaayug जिसे दिव्य युग भी कहते हैं।
सत्य युग 
वर्तमान वराह कल्प में हुए कृत या Satya को 4800 दिव्य वर्ष का माना गया है। ब्रह्मा का एक दिवस 10000 भागों में बँटा होता है जिसे चरण कहते हैं।

त्रेतायुग 
त्रेतायुग को 3600 दिव्य वर्ष का माना गया है, Treta Yug Maanavakaal के द्वितीय युग को कहते हैं। यह काल राम के देहान्त से समाप्त होता है।

द्वापर
द्वापर मानवकाल के तृतीय युग को कहते हैं, यह Kaal Krshn के देहान्त से समाप्त होता है।

कलियुग
1200 दिव्य वर्ष का एक कलियुग माना गया है। Kaliyug Chautha Yug है आर्यभट्ट के अनुसार महाभारत युद्ध 3137 ई.पू. में हुआ था, कृष्ण का इस युद्ध के 35 वर्ष पश्चात देहान्त हुआ था  तभी से कलियुग का आरम्भ माना जाता है।

तो हमारी जानकारी आपको कैसी लगी इन Sabhee Yugon Ke Naam के बारे में आपको कुछ विस्तार से जानकारी दिया गया है जो हमारे ग्रंथो में हमें उल्लेख मिलता है। 



Previous
Next Post »